Islamic Shayari

[1] मैं तो मर के भी बज़्म-ए-वफ़ा में ज़िन्दा हूँ, तलाश कर मेरी महफ़िल… मेरा मज़ार ना पूछ,, ————————————————————- [2] Namaz Me Bhi Meri Ishq Baziya NNa Gayi Danish Padhi Wohi Ayat Jisme Zikr_E_Ali Aaya,, ————————————————————- (3)जबां को पाक बनाओ READ MORE